लंदन : ब्रिटेन ने इराक और सीरिया में चल रहे संघर्ष को लेकर अपने यहां आतंकवादी खतरे के स्तर को बढ़ा दिया है जिसका मतलब है कि वहां आतंकवादी हमला होने की आशंका है। खतरे का यह स्तर नाजुक स्थिति (आसन्न हमला) से एक सिर्फ एक स्तर नीचे है।

वर्ष 2011 के बाद से खतरे के स्तर को बढ़ाकर दूसरे सर्वोच्च स्तर पर ले जाने का फैसला ब्रिटिश चरमपंथियों से बढ़ते खतरे के मद्देनजर किया गया है, जैसा कि प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पुष्टि की है कि सीरिया में और संभवत: इराक में लड़ने के लिए ब्रिटेन से कम से कम 500 लोग गए होंगे।

उन्होंने कहा कि इस्लामी स्टेट (आईएस) आतंकवादी हमारी सुरक्षा के लिए कहीं बड़ा और गंभीर खतरा हैं। डाउनिंग स्ट्रीट में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कैमरन ने संघर्ष में शामिल होने के लिए विदेश की यात्रा करने वाले लोगों से उनके पासपोर्ट आसानी से वापस लेने के लिए नये कानून बनाने की भी घोषणा की। बहरहाल, अमेरिकी पत्रकार जेम्स फोले की हत्या के आईएस वीडियो में दिखे संदिग्ध ब्रिटिश जिहादी की पहचान की कोशिश फिलहाल जारी है।

Source ¦¦ agency